Kundali

बिल्कुल सही कुंडली की पहचान
—————————-
—————————-

कभी कभी कई कारणों से जन्मकुंडली गलत बन जाती है जैसे घडी की गड़बड़, लोकल समय या सूर्य समय में अंतर से, पृथ्वी के ऊँचे-नीचे शहरों से, सूर्योदय के फर्क से या किसी भी कारण से अक्सर जन्म कुंडली गलत बन जाती है. जिस कारण ज्योतिषी द्वारा बताये गए उपाय से कोई फायदा नही होता।

कई बार ज्योतिषी आपकी कुंडली से जो लक्षण बताता है वह आपसे मेल नही खाते। ऐसे में कुंडली को शुद्ध( करेक्ट) करके ही देखना चाहिए। फिर जातक के हाव–भाव व् लक्षणों से सही जन्मकुंडली बनानी चाहिये। हर लगन की अपनी विशेषतायें होती है जो जातक से जरूर मेल खायेंगी।

अभी एक व्यक्ति की जन्म कुंडली विश्लेषण के लिए आई जो की तुला लगन की कुंडली थी लेकिन कुछ भी लक्षण तुला लगन के नही थे । जब कुंडली सिर्फ 10 मिनट पीछे लेके जाना पड़ा तब नक्षत्र बदलने के कारण वो कुंडली कन्या लगन की बनी और सभी लक्षण व् समस्याए मेल खाने लगी.

अर्थात कुंडली विश्लेषण करने से पूर्व जातक के व्यक्तिगत जीवन, पारिवारिक जीवन इत्यादि से संबंधित प्रश्न करके, हस्त रेखाओं से मिलान करके उसकी वास्तविक जन्म कुंडली तैयार करने के पश्चात विश्लेषण करना चाहिए अन्यथा फलादेश गलत होगा।

मित्रों मेरे पास बहुत से ऐसे साथी आते हैं जो जीवन के प्रारम्भ से ही या यूँ कहिये की काफी वर्ष पूर्व से जिस कुंडली को अपनी कुंडली समझ कर ज्योतिषी को दिखाते रहे हैं और उस ज्योतिषी के द्वारा बताये गए उपाय से उनको कोई फायदा नही होने पर ज्योतिषी को कोसते हैं और यदि हम उनकी कुंडली देख कर कह दें की यह आपकी कुंडली नही है तो उन महाशय को ये बात कभी कभी नागवार लगती है। जबकि कोई भी जानकार और अनुभवी ज्योतिष् आपके जन्म विवरण के आधार पर बता सकता है की वह कुंडली सही है या गलत।

अतः आप सभी से निवेदन है की अपनी या अपनो की कुंडली दिखाते समय ज्योतिष् का पूरा सहयोग करें और जल्दी ना मचाये एवं पूरा विश्वासः रखें।कुंडली का अधिकतम विश्लेषण फार्मूला अर्थात सूत्र पर आधारित होता है तथा सूत्र लगाते समय एकाग्रता एवं शांति की आवश्यकता होती है जिसमे आपके सपोर्ट की आवश्यकता पड़ती है अन्यथा फल गलत निकलेगा ।

कुंडली विश्लेषण के पश्चात जो उपाय आपको बताएं जाएं उसे सच्चे मन एवं विश्वास से जरूर करें।

दूसरी बात यह है की अपनी और अपनों की जन्म कुंडली का विश्लेषण प्रति तीन माह पर अवश्य कराना चाहिए।

यदि आपकी कुंडली (जन्म तारीख समय ) किसी कारण बस नही है तो किसी जानकार एस्ट्रोलोजर से बनवा लेनी चाहिए।